भारत का भूगोल (भाग-1)

भारत के भूगोल Indian Geography से सम्बंधित सामान्य जानकारी भारत के मानचित्र सहित दी गई है इसमें आपको भारत के प्रमुख दर्रे, उत्तरी पर्वतीय मैदान, विशाल मैदानप्रायद्वीप पठार, मरुस्थलीय प्रदेश, समुद्रतटीय मैदान का वर्णन मिलेगा तो चलिए सुरु करते है –

भारत का भूगोल (भाग-1)
  1. भारत का क्षेत्रफल 32 लाख 87 हजार 263 वर्ग किलोमीटर है
  2. क्षेत्रफल की द्रष्टि से भारत विश्व का 7वा सबसे बड़ा देश है जिसमे रूस, कनाडा, चीन, सयुंक्त राज्य अमेरिका, ब्राजील, आस्ट्रेलिया, भारत, अर्जेटीना आदि
  3. जनसंख्या के आधार पर भारत विश्व का दूसरा सबसे बड़ा देश है इसमें पहले स्थान पर चीन आता है
  4. जनसंख्या की द्रष्टि से विश्व के 8 बड़े देश – चीन, भारत, सयुक्त राज्य अमेरिका, इंडोनेशिया, ब्राजील, पाकिस्तान, बांग्लादेश एवम रुश
  5. भारत का क्षेत्रफल सम्पूर्ण विश्व के क्षेत्रफल का 2.42% है जबकि जनसंख्या सम्पूर्ण विश्व कि जनसंख्या का 17.5% है
  6. भारत का उत्तर से दक्षिण में विस्तार 3214 किलोमीटर है जबकि पूर्व से पश्चिम में 2933 किलोमीटर है
भारत का भूगोल - map of India

भारत का भूगोल – सामान्य जानकारी – Indian Geography

  1. भारत की स्थल सीमा की लम्बाई 15200 किलोमीटर है इसके तटीय भाग कि लम्बाई 7516.5 किलोमीटर है परन्तु मुख्य भूमि के तटीय भाग की लम्बाई 6100 किलोमीटर है
  2. भारत कि जलीय सीमा से सम्बन्ध 7 देश – पाकिस्तान, श्रीलंका, बांग्लादेश, म्यामार, मालदीव, थाईलेंड, इंडोनेशिया
  3. भारत की जल और स्थल सीमा से सम्बंधित देश – पाकिस्तान, बांग्लादेश और म्यामार
  4. भारत के सबसे दक्षिण बिंदु को इंदिरा पॉइंट और सबसे उत्तरी बिंदु को इंदिरा कॉल कहते है इंदिरा पॉइंट निकोबार द्वीप समूह में और उत्तरी कॉल जम्मू कश्मीर में स्थित है
  5. इंदिरा पॉइंट पहले पिग्मिलियं पॉइंट के नाम से जाना जाता था
  6. भारत का पश्चिमी बिंदु सरक्रीक(गुजरात) और पूर्वी बिंदु वालंगु(अरुणाचल प्रदेश) में स्थित है
  7. भारत और चीन की सीमा मैकमोहन रेखा कहते है जो कि 1914 में शिमला में निर्धारित की गई थी
  8. भारत और अफगानिस्तान के बीच डूरंड रेखा है जो कि 1896 में सर डूरंड के द्व्रारा निर्धारित की गई थी
  9. भारत और पाकिस्तान के बीच रेडक्लिफ रेखा है जो कि 15 अगस्त 1947 को सर सी जे रेडक्लिफ द्वारा निर्धारित की गई थी
  10. दक्षिण में श्रीलंका भारत से पाक जलसन्धि तथा मनार की खाड़ी द्वारा अलग होता है
  11. श्रीलंका के बाद भारत का दूसरा सबसे निकटतम पड़ोसी देश इंडोनेशिया है जो कि निकोबार द्वीप समूह में स्थित है
  12. भारत का मानक समय इलाहाबाद के निकट मिर्जापुर से गुजरने वाली 82.5 डिग्री पूर्वी देशांतर रेखा को माना गया है
  13. कर्क रेखा भारत के 8 राज्यों से होकर गुजरती है – गुजरात, मध्यप्रदेश, राजस्थान, छतीसगढ़, झारखण्ड, पश्चिम बंगाल, त्रिपुरा एवम मिजोरम
  14. भारतीय उपमहाद्वीप में सम्मिलित देश – भारत, पाकिस्तान, बांग्लादेश, नेपाल एवम भूटान
  15. भारतीय राज्यों में गुजरात राज्य कि तटरेखा सर्वाधिक लम्बी (1663) है इसके बाद आंध्रप्रदेश कि तटरेखा लम्बी है .
  16. भारत के 9 राज्य तटरेखा से लगे है – गुजरात, महाराष्ट्र, गोवा, कर्नाटक, केरल, तमिलनाडू, आंद्रप्रदेश, ओडिशा एवम पश्चिम बंगाल
  17. अरुणाचल प्रदेश कि सीमा पूर्व में म्यामार से, पश्चिम में भूटान से एवम उत्तर में चीन से मिलती है
  18. तीन और बांग्लादेश से घिरा राज्य त्रिपुरा है
  19. पहाडियों एव पर्वतिय क्षेत्रों मे पाए जाने वाले आवागमन के प्राकृतिक मार्गों को दर्रा कहा जाता हैं। भारत में हिमालय पर कई खुबसूरत लेकिन परिवहन के लिए खतरनाक दर्रे हैं। ये दर्रे व्यापार, यात्रा, युद्ध और प्रवास में एक बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं

पहाड़ो और पर्वतीय क्षेत्रो में व्यापार, यात्रा, युद्ध और प्रवास के समय काम आने वाले आवागमन के प्राकृतिक रास्तो को दर्रे कहा जाता है ये जितने देखने में बहुत ही खुबसुरत होते है उतने ही यातायात के साधनों के लिए खतरनाक भी

Read Also :- भारत की मिट्टी

भारत का भूगोल Indian Geography (प्रमुख दर्रे) –

  • कराकोरम, जोजिला, पीरपंजाल, बनिहाल, बुर्जुल दर्रा – जम्मू कश्मीर
  • शिपकिला, रोहतांग, बड़ालाचा दर्रा – हिमाचल प्रदेश
  • लिपूलेखा, माना, निति दर्रा – उतराखंड
  • नाथुला, जेलेपला दर्रा – सिक्किम बोम्दिला, याग्याप, दिफू दर्रा – अरुणाचल प्रदेश
  • तुजू दर्रा – मणिपुर
  1. जोजिला दर्रे का निर्माण सिन्धु नदी द्वारा, शिपकिला दर्रे का निर्माण सतलज नदी द्वारा एवम जेलेप्ला का निर्माण तीस्ता नदी द्वारा हुआ है
  2. जम्मू कश्मीर के लद्दाख क्षेत्र में स्थित कराकोरम दर्रा भारत का सबसे ऊँचा दर्रा (5624 मीटर) है यहा से चीन को जाने वाली अक सडक बनाई गई है
  3. रास्ट्रीय राजमार्ग 1ए लेह को जोजिला दर्रा होते हुए कश्मीर घाटी से जोड़ता है
  4. बुर्जुल दर्रा श्रीनगर से गिलगित को जोडती है
  5. बनिहाल दर्रे से जम्मू से श्रीनगर जाने का मार्ग गुजरता है जवाहर सुरंग इसी में है .
  6. शिपकिला दर्रा शिमला से तिब्बत को जोड़ता है
  7. थालघाट दर्रा 580 मीटर ऊँचा है जो कि नासिक एवम मुंबई के बीच का सम्पर्क मार्ग है
  8. भोरघाट दर्रा 630 मीटर ऊँचा है जो मुंबई एवम पुणे के बीच का सम्पर्क मार्ग है
  9. पालघाट दर्रा 305 मीटर ऊँचा है जो कि कोयम्बटूर एवम कोचीन के बीच का सम्पर्क मार्ग है
  10. शेनकोटा 280 मीटर ऊँचा है जो कि तिरुंतपुरम एवम मदुरे के बीच का सम्पर्क मार्ग है

भारत का भूगोल Indian Geography (भोतिक स्वरूप)

भारत को भोतिक स्वरूप के आधार पर पांच भागो में बाँटा गया है –

  1. उत्तरी पर्वतीय मैदान
  2. विशाल मैदान
  3. प्रायद्वीप पठार
  4. मरुस्थलीय प्रदेश
  5. समुद्रतटीय मैदान

देश के कुल क्षेत्रफल के 10.7% भाग पर उंच पर्वत श्रेणी है जिनकी ऊंचाई समुद्रतल से 2135 मीटर या इससे अधिक है 305 मीटर से 2135 मीटर कि ऊंचाई वाली पहाड़ीया 18.6% भू-भाग पर विस्तृत है 43% भूभाग पर विस्तृत मैदान का विस्तार है

भू-वैज्ञानिको के मतानुसार जहा आज हिमालय पहाड़ है, वहा टीथिस नामक उथला समुद्र था

उत्तर के पर्वतीय क्षेत्र को चार प्रमुख समांतर पर्वत क्षेत्रो में बाँट सकते है –

  1. ट्रांस हिमालय क्षेत्र
  2. हिमाद्री अर्थात सर्वोच्च या व्रहद हिमालय
  3. हिमाचल श्रेणी, लघु या मध्य हिमालय
  4. शिवालिक अर्थात निम्न या बाह्य हिमालय

ट्रांस हिमालय श्रेणी –

इसके अंतर्गत कराकोरम, लद्दाख, जास्कर आदि पर्वत श्रेणी आती है k2 या गांडविन आस्टिज (8611 मीटर)कराकोरम की सर्वोच्च चोटी है जो भारत कि सबसे ऊँची चोटी है

हिमाद्री अर्थात सर्वोच्च या व्रहद हिमालय –

यह हिमालय की सबसे ऊँची श्रेणी है इसकी ओसत ऊंचाई 6000 मीटर है विश्व कि सबसे ऊँची चोटी एवरेस्ट (नेपाल) इसी पर्वत श्रेणी में स्थित है कंचनजंघा नगापर्वत, नंदादेवी, कमेट व् नाम्चाब्र्वा आदि इसके कुछ महत्वपूर्ण शिखर है

हिमाचल श्रेणी अर्थात लघु या मध्य हिमालय –

इस श्रेणी में पीरपंजाल, धोलाधर, मसूरी, नागटीबा एवम महाभारत श्रेणीया है शिमला, कुल्लू, मसूरी, दार्जलिंग आदि लघु हिमालय में ही है

शिवालिक अर्थात निम्न या वाह्य हिमालय –

यह हिमालय का नवीनतम भाग है शिवालिक एवम लघु हिमालय के बीच कई घटिया है जेसे – काठमांडू घाटी .पश्चिम इसे दून या द्वार कहते है जेसे – देहरादून और हरिद्वार